Own Poetry English

The Sensible Thing

I have lived
For love, and
For duty, and
For success.

I have pursued
All things material, and
Interests of all humankind.

I have seen enough humility
To say without irony
Been there, done that.

At the end of the day
The senselessness of it all
Is the only sensible thing to believe in.

Travel

Mauritius – In Africa, between India and Europe

The overarching feeling I got in Mauritius was that I was in a place between India and Europe. The creole food looks and tastes pretty close to Indian food – the African heritage is probably hidden in some actual ingredients – European food is ubiquitous, tasty, and possibly more authentic than average Indian adoptions. Hinduism is the largest religion followed by Christianity and Islam. A visit to the major Hindu religious place of Ganga Talao gives the vibe not just of a generic Indian Hindu religious place, but very specifically of Bihar – Hindi bhajans, visible pooja rituals, bright clothes, saree wearing style (seedha palla) – I might have been at the City Kali temple of Purnia – my hometown in Bihar. I almost expected to hear Hindi, Maithili, Angika, Bhojpuri or Magahi, but what came out of people’s mouths was French and French-based creole. On our next stop, however, we enter a rhumerie (rum distillery) with its chateau and a chimney, charming gardens, and a fancy restaurant that serves a very creole version of sabji-chawal with a very European plating and offers Rum tasting. Most of the menus in the eateries at Caudon waterfront (and the pronunciation of “Caudon”) are in French, but the movie theater right here is showing all the latest Bollywood releases. TV serials and radio programs are also dominated by Hindi and Indian content. Despite it having been a British colony before its independence in 1968, and the official language still being English, the real link language is French and we struggled to order Veg and Egg Fried rice as our first meal in Port Louis in English. Fortune turned when the guy suddenly asked, “Idhar khana hai ya lekar jaana hai?” (or something like that. For the non-Hindi speakers, he asked us in slightly broken Hindi if we wanted to eat there or take away). After that, we managed to complete our order with Hindi keywords. Yes – between India and Europe.

Our first Creole meal.

Compared to any Asian or European country we have visited, Mauritius is a curious experience. The country has a very short history of human habitation and that history is also curious. The island was known to Arabs but never used or occupied by them. Portuguese landed in 1507 but they also didn’t do much. The first people to attempt colonization were the Dutch. After landing in 1598, the real attempts began in the late 1630s, but ultimately, they decided it wasn’t worth their while and abandoned it in 1710. French came in 1715 and they managed to finally colonize the island. They lost it to the British in 1810 during what the outside world would know as the Napoleanic wars, but in Mauritius, we didn’t see the Napoleanic wars referred to. The internal star of that period there is the battle of Grand Port on the southeast of the island, which actually the French won. But then the British managed to turn the fortune three months or so later. Dutch brought slaves to get the necessary labor to colonize the place, and also brought sugarcane crops. French and British continued bringing slaves and building the sugarcane-based economy. British had to deal with the abolition of slavery in 1835 and in finding the solution to that created the India connection. The solution was indentured labor, primarily from India. The descendants of Indians are the largest ethnic group in Mauritius today, and also the bearer of their largest religion of Hinduism (and also Islam as far as I know). According to whatever source Wikipedia uses, as far as mother tongue goes after Mauritian Creole at 86.5%, Bhojpuri stands next at 5.3%.

A scene at Ganga Talao.

And in this curious history lies the source of curiosities we witness today. There is no group that can claim to be a “native” of Mauritius. The history is too recent and well-known for anybody to claim otherwise. But most people don’t track their identities to some other native country (like India) either. Nor does any one of the three colonial powers receive special treatment either in terms of identifying with them, or hating them.

Rhumerie de Chamarel.

The religion and culture from India have survived, however, and become Mauritian. Those displaced from their origin as slaves the world over had lost their identities owing to the deliberate practices of slave owners. The case of indentured labor is slightly different though. Technically indenture was a 5-year work contract. Although, the respect for their rights, labor conditions, and rules of engagement were nowhere near the modern standards of a fair work contract, given that they worked for a pittance, under bad conditions, for very long hours, didn’t have the freedom of movement beyond the plantation they were attached to, and could be severely punished monetarily and physically for missing work, they were still considered individuals and humans, a party to a contract, and not a property. And that little distinction meant that their cultural identity was not erased. At the same time, one has to remember that people wouldn’t have signed up for indentured labor and left their homes for unknown territories for the sake of opportunities, fun, or adventure. They must have been desperate and must have had little to nothing to lose at home. It would have been impossible for them to maintain connections “back home”. Technically, they were supposed to come back after completing five years of indenture. But British stopped paying for their passage back home after a while and their earnings were not sufficient to pay for it either. So, while a decent number returned initially, most had to stay back. So, the religious and cultural practices were carried out in an environment disconnected from their origins, with a limited number of fellow indentured labors to keep the community memory going while struggling to survive and raise the next generation, and without the support of any elite class that has the leisure to codify and formalize the religion or splurge on maintaining it. That it survived and flourished is a big deal. Probably the centuries of continuity despite changes and evolution in India does confer some longeivity on Hindu religion. However, we should be wary of taking pride in this religious and cultural export to the island. Because the reason they went was that this country could not take care of them. And they stayed because even that big a risk didn’t pay off enough to help them come back. Neither can be a matter of pride.

(Indian traders and artisans also went to Mauritius, which would be, of course, a more privileged group and might have helped in the cultural and religious exchanges.)

A Gujarati trader’s shop in Port Louis.

But all that is in the past. Today, most people of Indian origin may vaguely know the region their ancestors came from, but some may not be sure even of that. Some have tracked their origins more diligently. But even that doesn’t really seem to be a search for identity. Their identity is Mauritian.

This is an article I found that seems a good source of an insider’s view of Mauritian Hinduism. Of course, given the site it is on, it may be overemphasizing the practice and importance of religion, and the article is based only on the people who are religious, but it gives a good view of what religion is like in Mauritius. As an Indian, it seems familiar and yet creolized in some ways. For example, the biggest Hindu festival on the island is Mahashivaratri. Like, crazy big – roads blocked, schools closed for a week, kaanwariyas marching to Ganga Talao and basically blocking all the roads in the process. The biggest festival in India, of course, varies from region to region, and Mahashivaratri is an important festival celebrated almost across the country, but I cannot imagine any particular region which will think of Mahashivaratri as the most important and the biggest festival for them. It took Mauritians for Mahashivatri to get that distinction. The other big Hindu festivals are Holi and Deepavali. Dushehra, Rakshabandha, Janmashtami, etc. are also celebrated, as may be many other festivals of communities of different origins. But there is one festival that is conspicuous by its absence for the Bihari in me. The biggest group within the descendants of Indian Hindus are the descendants of Bhojpuri-speaking folks from Bihar/Eastern UP. Hence, its position as a mother tongue even today. But Chhath is not celebrated in Mauritius as far as I can tell. In India that’s the festival that has become the unique signifier of the regional culture of Bihar, so why did that not get exported? Was it not that big a festival at the time the migrations happened (1835-1910)? Was it difficult to maintain by the impoverished indentured labor community? (With the soop-baskets full of sweets, fruits, etc. that are offered during the festival, it feels like a celebration of plenty!) Or it just happened because things happen sometimes for no grand reason? I don’t know right now. I noticed in the article how everyone talked about the samskaras they have gone through and the ones they are expecting in the future. Now, I understand the concept, but I have not ever heard it being talked about in those terms. Do you really ever list that you have gone through namakarana and vidyarambha samskaras, and are waiting for vivaha samskara? But that seems like a perfectly obvious way to frame questions and get answers from Mauritian Hindus.

Dholl Puri. Indian English transliteration – Dal Poori. Indian origin is not difficult to see in the recipe as well as the name. But nothing exactly the same may be as popular in India.

Going by the article linked earlier, caste seems to have survived in Mauritius. I am curious about what were the castes from which people migrated. I would think it would be skewed towards lower castes. But I don’t know. I am also curious about the priests. I don’t suppose Brahmins would have gone as indentured labor (with losing caste on crossing the sea and what not). Did some of the non-Brahmins somehow become priests later? Or did the poor Brahmins indeed migrate as labor? Or did the priests land there later sensing an opportunity in serving the religious needs of indentured labor and their descendants? Like the Gujarati traders who went to supply what the Indian-origin population needed. I don’t know right now.

The current cultural influence of India is very high. But it has not much to do with tracking their religion, culture, or identity to India. It is just that due to the shared cultural history, the content resonates. The reason is similar to what makes Turkish shows often popular in India. The content resonates much more than American or Western European content would. Because of similar cultural norms, family identities, social expectations, etc. And my guess is that more prevalence of Hindi than I had expected is not because of Bhojpuri-speaking ancestors, it is because of current cultural influence through media and content. Workers from India and Bangladesh still go to Mauritius to work in retail, construction, and other industries. That might be another source of Hindi prevalence. Mauritius airport has signboards in four languages – English, French, Chinese, and the fourth one is in the Devnagari script. I am not sure if that is in Hindi or Bhojpuri. “Welcome” is translated as “स्वागत हे” – is that Bhojpuri, or the wrong spelling of है in Hindi?

Food court in a mall. Note Hindi on the board (chaat ka asli maza).

Another curious thing about Mauritius is that there is no historical enemy of the nation. Not even any of the colonial powers are seen that way. Dutch came and went. In 1998, Post-British, independent Mauritius celebrated 400 years of Dutch landing with a monument at their site of landing. French came and lost to the British. And the museum in Mahebourg boasts of having been a hospital that treated the injured leaders of both the French and British sides. British also signed a nice treaty with the French according to which French people (plantation owners etc.?) could continue living on the island, and the french administration, systems, customs, as well as languages were maintained. And hence the prevalence of the French language as the link language even today, although from 1810 to 1968, it was a British colony. The cultural and trade ties also seem stronger with France than the UK. France is also the biggest source of tourists to the island. (India is also pretty high up in the list, but it doesn’t seem very popular with the Americans yet.) Communicating in English is often difficult in Mauritius. The only British thing seems to be that they drive on the left side of the road (which was a boon since we rented a car and were driving ourselves!). Even the British as the latest colonizers are not the enemy. The first prime minister of independent Mauritius didn’t feel the need to drop “Sir” from his name Sir Seewoosagur Ramgoolam (let me transliterate that name to the Indian English spelling of Sir Shivsagar Ramgulam!) and his party didn’t even want independence from the British. There were other parties who wanted independence, but overall it seems like the British decided that they can’t be bothered with colonies anymore and thrust their independence on them! So, India has the British as the historical enemy and the pride of independence struggle, Vietnam has 1000-years of Chinese domination story, followed by French and Americans as colonial and capitalist enemies, Cambodia has Thailand and Vietnam, before French and then the home-grown Khamer Rouge, many African countries have French, but Mauritius has none. Dutch, French, British, and independent Mauritian governments are all just part of the flow of history. Bad things have happened (slavery, indentured labor), but that is what has built the nation, and there seem to be no enemies.

So, the Mauritian identity doesn’t trace itself to some long-gone past in another native country, and it isn’t something that has been built against a common enemy either. That’s curious and unique I think – and almost unbelievable – too good to be true. There must be internal fault lines, which I don’t know enough about. But if those fault lines don’t become overwhelming and if the Mauritian identity continues to be Mauritian without having to have an outside reference – of some glorious past in a distant land, or of an enemy situated out of context, that would be a good thing, a beautiful thing. That sounds more romantic than I feel comfortable with!

Oh yes! It’s a beautiful country and the beaches are awesome and it is a haven for watersports. But you already know that.

Yes. Beaches are beautiful and water turquoise and blue!
Information

Mindfulness

There is a lot of spiritual mumbo-jumbo around meditation and mindfulness. Even when you specifically try to learn stuff from people who would proclaim a no-nonsense approach, it seems almost impossible for them to stop themselves from indulging in profound-sounding vacuousness.

BUT

In this sea of annoying and irritating inanities, there was one really insightful idea. The idea that thoughts take over your mind uninvited, unbidden. We don’t seem to have control over our minds in that way. We are constantly thinking when there is no need to, when we don’t really want to. The aim is not to get rid of thoughts or to not think. The aim is to think when you want to and to not have thoughts colonize your mind otherwise. The real lightbulb moment for me was the realization of just how difficult that is. Trying to be mindful for even a few minutes is impossible and the experience is very humbling.

I am just starting on this journey. Not with an aim to actualize myself or discover the mystery of the universe. But with a much humbler and still very difficult aim of getting some control over my mind and preventing uninvited thoughts from colonizing it. Progress is embarrassingly slow. But it is how it is (and I don’t want to invite the mumbo jumbo of it’s not about progress etc.). At any rate, the insight was worth having.

बुनियादी बातें (Buniyadi Baatein)

Power (बुनियादी बातें – Episode 9)

Transcript below

नमस्कार। बुनियादी बातें के नवें episode में आपका स्वागत है। इस सीरीज़ में हम दुनिया भर की बातें करते हैं – science की, history की, society की। लेकिन हमेशा करते हैं बुनियादी बातें। आज हम बात करने वाले हैं Power की, जिसकी चर्चा इस सीरीज़ के पिछले कुछ episodes में भी हुई है, लेकिन जिसके बारे में हमने विस्तृत बातें नहीं की हैं।

Power, of course, English का एक शब्द हैं जिसका मतलब सभी जानते होंगे। तो फिर हम इसके ऊपर पूरा episode क्यों बना रहे हैं। क्योंकि हम English word power की नहीं बल्कि social power के concept की बात कर रहे हैं, जो कि थोड़ा subtle concept है, लेकिन जो हमारे समाज, देश, क़ानून व्यवस्था, in fact, मानव सभ्यता की बुनियाद को प्रभावित करता है। बल्कि ये कहना ज़्यादा सही होगा कि Social power और उससे जुड़ा concept – privilege – हमारे समाज की बुनियाद में गुंथे हुए हैं, और इस तरह गुंथे हुए हैं कि हमें पता भी नहीं चलता कि वे exist करते हैं। Power और privilege को समझना, एक तरह से अपने आप को समझने का तरीका है।

क्या आपने कभी ऐसी घटना सुनी या देखी है जहाँ किसी teacher के छोटे से encouragement से किसी बच्चे ने ऐसी line पकड़ी जिससे उसकी ज़िंदगी बन गई। और उसका उलटा भी जहाँ किसी teacher की डाँट या हतोत्साहित करने वाली बात ने किसी बच्चे को कोशिश करने से भी रोक दिया। Teachers जिन बच्चों को पसंद करते है, और जिनको नापसंद करते हैं, जिनके ऊपर ध्यान देते हैं, और जिनके ऊपर नहीं देते हैं, उनका development बिलकुल अलग direction में होता है। Teacher और student की relationship में, भले ही कितनी कहानियाँ हों कि बच्चे teachers को कितना परेशान करते हैं, लेकिन ultimately teacher के पास एक power होती है। उनके पास power होती है कि बच्चों को दिन को रात, और रात को दिन बता दें, और बच्चे उसे मान लें। इस power का physical power से कोई लेना-देना नहीं है। जहाँ teacher बच्चे पर गलती से भी हाथ नहीं उठा सकते, वहाँ भी teacher की power होती है। ये एक social power है।

अब उस teacher को देखें, तो उनके ऊपर भी किसी की power होगी। School के principal की, school के administration की, और अगर बहुत पैसे charge करने वाला private school है, तो शायद बच्चों के parents की भी। और यहाँ सिर्फ formal power की बात नहीं हो रही है, कि principal teacher का boss है, तो कुछ decisions उसके पास हैं। यहाँ भी एक subtle power है। मान लीजिए कि teacher ने किसी student से सख्ती से कुछ कहा, और parents गुस्सा हो गए। यहाँ पर school principal teacher के साथ खड़ा होगा या नहीं, ये उस teacher के ऊपर उसकी बहुत बड़ी पावर है, और शायद student के ऊपर भी। इस situation में कौन सही था और कौन गलत, ये निर्णय लेने की पावर है उसके पास। तो एक principal की teacher और student दोनो के ऊपर power है।

उसी तरह से पुलिस के पास power है। कानून की रक्षा करने के लिए तो कई तरह की powers हैं ही, formally, लेकिन एक आम नागरिक के नज़रिए से कई तरह की subtle powers भी हैं। आप किसी की complaint कर रहे हैं तो वो आपको seriously लेंगे या नहीं, report लिखेंगे या नहीं, report लिखी भी तो उस पर कोई कार्यवाही करेंगे या नहीं, ये एक पावर है पुलिस के पास आपके ऊपर। दूसरी तरफ़ अगर कोई आपके ख़िलाफ़ झूठी complain लिखवा रहा है, तो पुलिस उसे कैसे handle करेगी, इसकी वजह से भी उनकी बड़ी power है आपके ऊपर। और proxy से जिन लोगों को police ज़्यादा seriously लेती है, जैसे कि जिनकी police department में जान-पहचान है उनकी आपके ऊपर power हो जाती है।

Power dynamics लगभग हर relationship में होती है। एक job interview के समय interviewer की interviewee के ऊपर पावर होती है, parents की बच्चों के ऊपर power होती है, अगर एक business negotiation चल रहा है दो कंपनियों के बीच तो उनमें से एक अगर established बड़ी company है और दूसरी एक startup जो किसी तरह से market में घुसने की कोशिश कर रही है, तो established company के लोगों की startup के लोगों के ऊपर पावर है।

इन उदाहरणों में हम फिर भी power का एक formal, legitimate source और reason देख सकते हैं। लेकिन power के source कई बार legitimate नहीं होते हैं, फिर भी power होती है। और यहाँ के कुछ उदाहरण आपको uncomfortable लगेंगे, लेकिन सुनिए ज़रूर। किसी भी public जगह पर बस, train, मेला, बाज़ार – पुरुषों की स्त्रियों के ऊपर पावर होती है। वे बहुत कुछ कर सकते हैं, स्त्रियों को molest कर सकते हैं, सीटियाँ बजाकर, ऊल-जलूल बातें कर के उनकी insult कर सकते हैं, उन्हें डरा सकते हैं, उनके आत्मविश्वास और dignity को ज़िंदग़ी भर के लिए चोट पहुँचा सकते हैं, और उन्हें पता है कि उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा। हमारा समाज, यहाँ तक की हमारी पुलिस और हमारे नेता भी स्त्रियों को घर पर रहने को कहेंगे। ये है पावर एक gender की दूसरे gender पर। कोई legitimate reason नहीं है, लेकिन power है। हर रोज़. हर कोई इस्तेमाल करे या ना करे लेकिन power है।

एक और उदाहरण है इस तरह की पावर का जिसे मानने से हमारा समाज, खास कर के सवर्ण लोग, बहुत कतराते हैं। वो है तथाकथित ऊँची जाति के लोगों का तथाकथित नीची जाति के लोगों पर पावर। और नहीं, यह सिर्फ़ पिछड़े गांवों में नहीं है, जहाँ दलित दूल्हे को घोड़ी चढ़ने के लिए भी मार दिया जाता है। ये हर जगह है, हमारे शहरों में, हमारे परिवारों में, हमारे educational institutes में, हमारे workplaces में, fancy से fancy जगहों पर सवर्ण लोग दलितों का, आदिवासियों का मज़ाक उड़ा सकते हैं, उन्हें नीचा दिखा सकते हैं, caste-no-bar का वैवाहिक विज्ञापन देकर भी दलितों से विवाह करने से इंकार कर सकते हैं और उनकी बेइज़्जती कर सकते हैं, “category candidates” को नीची नज़रों से देख सकते हैं, उन्हें हतोत्साहित कर सकते हैं, उनकी hiring और promotion में अड़चन डाल सकते हैं अपने biases की वजह से, और उनका कुछ नहीं बिगड़ता। Caste की बात आने पर ज़्यादातर लोग इस power dynamic के बारे में बात नहीं करना चाहते, बस reservation आज-के-आज खतम करा देना चाहते हैं। Reservation के बारे में हम कभी फिर बात करेंगे। लेकिन power का ये उदाहरण मत भूलिएगा।

एक और महत्वपूर्ण power को समझना ज़रूरी है, वो है सरकार की पावर, नागरिकों के ऊपर। Formally और exactly, हम इसे state power कहते हैं। State का मतलब यहाँ राज्य नहीं है। State शब्द को यहाँ overall सरकारी machinery का पर्याय माना जा सकता है – हर level की machinery। इस power का source legitimate है। State का काम है कि समाज में क़ानून-व्यवस्था बनाए रखे, और इसलिए उसके पास लोगों को गलत काम करने से रोकने की power होनी ही होगी। और क्योंकि state की responsibility इतनी बड़ी है, उसकी powers भी बहुत ज़्यादा हैं, और बहुत pervasive हैं। बड़े स्तर पर हर तरह के गलत काम को रोकने के लिए state ने बहुत तरह के नियम-कानून बना रखे हैं। इतने नियम-क़ानून हैं कि कोई भी सारे नियम-क़ानून जान नहीं सकता, और जानें भी तो कई परिस्थितियों में उनको follow करना possible ही नहीं होगा। Zebra crossing पर सड़क ना cross कर के ही हमारे देश में कितने लोग रोज़ क़ानून तोड़ते हैं। लेकिन हमारे शहरों में जितनी population है, सड़कों और traffic की जो हालत है, और zebra crossings की उपलब्धता ही इतनी कम है, तो अगर सब लोग उस क़ानून को follow करने लगें तो शायद शहरों में सारा काम ही रुक जाएगा। आधे लोग nearest zebra crossing तक पहुँच नहीं पाएंगे, आधे पहुँच कर वहाँ jam लगा देंगे। लेकिन सरकार अगर आपके पीछे पड़ जाए तो zebra crossing का ही इस्तेमाल कर के आपकी ज़िंदग़ी हराम कर सकती है। ये थोड़ा comical लगता है, लेकिन कई ऐसे नियम क़ानून हैं, जिनका इस्तेमाल बिलकुल legitimate तरीके से कर के सरकार बिलकुल innocent लोगों की ज़िंद़ग़ी खराब कर सकती है। और ऐसा हर रोज़ होता है। कितने लोग सालों तक जेल में सड़कर बेगुनाह साबित किए जाते हैं। Eventually अगर उन्हें रिहाई मिल भी गई तो भी सरकार की power ने उनके इतने साल और जिंदग़ी तो खराब कर ही दी।

सरकार के पास सिर्फ़ कानून का इस्तेमाल करने की नहीं, बल्कि क़ानून बनाने की भी power होती है। किस चीज़ को गलत माना जाता है, किसको नहीं, यह अपने आप में power का बड़ा source है। मान लीजिए कि अगर सरकार ने नियम बना दिया कि शादी-ब्याह, जन्मदिन, त्योहारों पर जितने भी gifts लिए-दिए जाते हैं, उन सबका ब्योरा आपको अपने income tax return में देना होगा, तो कितने लोग इस नियम का शत-प्रतिशत पालन कर पाएंगे। सरकार भी सबके पीछे नहीं दौड़ पाएगी, लेकिन जिसके पीछे वह जाना चाहे, उसे अगर सौ रुपए की एक किताब भी gift में मिली हो तो income tax evasion का मामला बनाकर उन्हें पूरी जिंदग़ी court-कचहरी और वकीलों के चक्कर में फंसा कर रख देगी। Gifts का लेखा-जोखा रखने के क़ानून के पीछे genuine वजह ये हो सकती है कि कई लोग commercial transactions को gifts बता कर tax की चोरी कर रहे हों। लेकिन gifts लेना-देना आम आदमी के लिए इतना normal काम है कि ऐसा क़ानून बना देने के बाद अपनी life एक बिलकुल normal तरीके से जीने वाला इंसान भी आसानी से मुजरिम करार दिया जा सकता है। तो state power की जरूरत तो है, लेकिन ये ध्यान में रखना बहुत ज़रूरी है कि वो power बहुत ज़्यादा है और उसके गलत इस्तेमाल से लोगों की ज़िंदगी बर्बाद हो सकती है, और हर रोज़ होती है।

क्यों power relationships को समझना ज़रूरी है। क्योंकि हमारे समाज में बहुत कुछ जो सही या गलत होता है, वह इसपर निर्भर करता है कि क्या हम इस power dynamics में powerful को और बढ़ावा दे रहे हैं, और जिनके पास power नहीं है उनपर ही और मुसीबत डाले जा रहे हैं, या हम powerful लोगों से accountability माँग रहे हैं। ये power dynamics और उसकी तरफ़ हमारा attitude ये decide करते हैं कि हमने किस तरह का समाज बनाया है। एक तानाशाही समाज में तानाशाह की पावर absolute होती है और वह उसका जैसे भी इस्तेमाल करे, कोई उसे कुछ कह नहीं सकता। यह तो एक अच्छा समाज नहीं है। और इसलिए एक democratic या लोकतांत्रिक समाज में सरकार से, powerful लोगों से सवाल पूछने की आज़ादी ज़रूरी मानी जाती है।

क्या करना चाहिए एक अच्छे समाज को अलग-अलग तरह की power dynamics के बारे में।

उसे समझने के लिए इस बात पर फिर गौर करते हैं कि power दो तरह की हैं हमारे उदाहरणों में।

एक तरह की power ज़रूरी power, उसका एक legitimate reason या source है। जैसे कि parents की बच्चों के ऊपर power होना ज़रूरी है, खास कर के तब जब वह छोटे हैं, क्योंकि वे अपनी ज़िदगी खुद जीने में, या अपने लिए सही decisions लेने में सक्षम नहीं है। तो अगर parents के पास उनके भले-बुरे के लिए निर्णय लेने की power नहीं होगी, तो बच्चे ज़िदा ही नहीं बचेंगे, parents ने ना रोका तो कितने बच्चे खुद को आग में झुलसा लेंगे या सीढ़ियों पर गिर कर मर जाएंगे, या बच भी गए तो अगर parents उनके पीछे नहीं पड़े, तो कभी पढ़ाई नही करेंगे, कुछ काम करना नहीं सीखेंगे, किसी काम के नहीं रहेंगे। इसी तरह से school में teachers की, office में seniors की और managers की, और देश में सरकार की power ज़रूरी है, वर्ना वे अपना काम नहीं कर पाएंगे और समाज चलेगा ही नहीं।

ऐसे power के case में एक अच्छे समाज में ध्यान इस चीज़ पर दिया जाएगा कि powerful व्यक्ति या institution accountable [JJ1] है, अपने power का गलत इस्तेमाल नहीं कर रहा है, और अपने पावर का इस्तेमाल सिर्फ अपना काम करने के लिए कर रहा है, personal फ़ायदे के लिए नहीं कर रहा, और अपने power के इस्तेमाल में अपने biases को नहीं आने दे रहा है। एक अच्छा समाज यह भी ensure करेगा कि power किसी को सिर्फ़ उतनी मिले जितनी absolutely ज़रूरत है। क्योंकि ज़्यादा power, मतलब power का ज़्यादा misuse.

दूसरी तरह की power बिलकुल गलत होती है। जैसे कि gender और caste वाली power. एक अच्छा समाज इसको justify करने की कोशिश नहीं करेगा, उसको नज़रअंदाज़ करने की कोशिश भी नहीं करेगा, बल्कि इसके खिलाफ़ जंग छेड़ देगा। तब तक जब तक ऐसी power dynamics समाज से खतम ना हो जाए। लेकिन एक practical अच्छा समाज यह भी समझेगा कि ये जंग लंबी चलेगी क्योंकि कोई भी power छोड़ना नहीं चाहता। एक practical अच्छा समाज यह भी समझेगा कि कोई silver bullet या quick solution नहीं है इस समस्या का। जंग लंबी चलनी ही होगी।

अब अगर आप देश और समाज में कुछ individuals, groups और institutions की power की existence की ज़रूरत और खतरों दोनो को समझते हैं, तो वहाँ से हम संविधान और कानून के कई प्रावधानों को बेहतर समझ सकते हैं। ऐसे कुछ प्रावधानों पर बात करते हैं।

हमने पिछले episode Indian Democracy में बात की थी कि कैसे democracy को सरकार और नागरिकों के बीच के power difference को address करना होता है, और उसके लिए कैसे संविधान में कई प्रावधान है। जैसे कि नागरिकों के मौलिक अधिकार – fundamental rights. हमारी moral upbringing ऐसी है कि हम कई बार rights – अधिकार – शब्द को अच्छा मानने से कतराते हैं। कई लोग तो ऐसे behave करते हैं जैसे कि सरकार से अधिकारों की मांग करके हम selfish हो रहे हैं। जैसे कि हम कोई बिगड़े बच्चे हैं, जिन्होंने अपने parents से कोई महँगा gift खरीदने की ज़िद लगा दी हो। लेकिन हमारे सांवैधानिक अधिकार बिगड़े बच्चे को मिले gifts नहीं हैं। हमारे सांवैधानिक अधिकार एक अच्छे, न्यायपूर्ण समाज की रीढ़ हैं। क्योंकि वे government की excessive power को regulate करने का तरीका हैं। तो आज के बाद कभी भी सांवैधानिक अधिकारों को, या उसकी मांग को हेय दृष्टि से मत देखिएगा।

सरकार में तीन independent अंगों का होना – विधायिका, कार्यपालिका, और न्यायपालिका – जिनके बीच division of power है, यह भी government या state power को control करने का तरीका हैं। इसलिए अगर कभी इनमें से एक अंग किसी दूसरे के प्रभाव में आता है, तो उसके बारे में चिंता करना, और उसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठाना भी बिलकुल जायज़ है।

हमने episode में पहले ये भी कहा कि एक democratic या लोकतांत्रिक समाज में सरकार से, powerful लोगों से सवाल पूछने की आज़ादी ज़रूरी मानी जाती है। ये freedom of speech, और freedom of press जैसे सिद्धांतों में दिखता है। लेकिन इनका इस्तेमाल करके powerful लोगों या सरकार को challenge करना हमारी भारतीय संस्कृति में कई बार लोगों को सही नहीं लगता। हमें आज्ञाकारी होना सिखाया जाता है, बड़े लोगों की तरफ़ और authority वाले लोगों की तरफ़। और आम तौर पर rules-regulations को follow करना सही भी है। लेकिन जहाँ power dynamics को challenge करने की बात आती है, उसे संतुलित करने की बात आती है, वहाँ सरकार की तरफ़ blind obedience गलत है। Powerful लोगों और सरकार से सवाल पूछना, उनके गलत actions और rules के खिलाफ़ खड़े होना सही है। ये सिर्फ़ हमारा अधिकार ही नहीं, बल्कि नैतिक ज़िम्मेदारी है एक अच्छा, न्यायपूर्ण समाज बनाने के लिए।

State power से related कुछ प्रावधान criminal justice system में भी हैं। जब भी कोई crime होता है, जिसके लिए criminal case करना होता है – जैसे कि चोरी, rape, murder इत्यादि, तो इसमें आरोपी के ऊपर case चलाने की ज़िम्मेदारी सरकार की होती है, state की होती है। उसमें case victim और आरोपी के बीच नहीं चलता। जो कि एक अच्छी बात है, क्योंकि क़ानून व्यवस्था बनाए रखना सरकार का काम है और इसलिए case चलाना victim की ज़िम्मेदारी नहीं होनी चाहिए। कोई आरोपी इस वजह से नहीं बच जाना चाहिए कि victim कमज़ोर था या उसके पास resources नहीं थे। इस अच्छे प्रावधान का flip side ये है कि आरोपी के ख़िलाफ़ state power है। और state power, हमने देखा है कि बहुत ज़्यादा होती है, और बड़े-से-बड़े तीसमार खाँ लोगों को मज़ा चखा सकती है। अगर वे तीसमार खाँ वाकई दोषी हैं, तो फिर तो बहुत अच्छी बात है। लेकिन अगर नहीं दोषी हैं, और state की machinery उनके ख़िलाफ़ खड़ी हो गई तो उनको बचाना नामुमकिन हो जाएगा, अगर उनकी रक्षा के लिए प्रावधान नहीं हैं तो। इसलिए आरोपियों के पास भी कुछ अधिकार हैं। जैसे कि लगभग हर आरोपी का bail मिलने का अधिकार होता है। ऐसे आरोप जिसमें bail नहीं मिल सकती, बहुत संगीन और बहुत obvious होने चाहिए। पुलिस अगर non-bailable आरोप दायें-बायें लगाती रहती है जिनको भी चुप कराने का मन हुआ उनके ख़िलाफ़ तो यह गलत करती है क्योंकि ये state power का नाजायज़ इस्तेमाल है।  हर आरोपी को legal representation का भी अधिकार है precisely इसलिए कि उसके ख़िलाफ़ state power खड़ी है। अगर victim के कमज़ोर होने की वजह से दोषी का छूटना गलत है, तो आरोपी के कमज़ोर होने की वजह से उसको दोषी करार दिया जाना भी गलत है। हम अक्सर आरोपियों के अधिकार की महत्ता समझते नहीं है। और खासकर अगर हम convinced हैं कि आरोपी दोषी है, तो कई लोग चाहते हैं कि आरोपी को कोई मदद ना मिले। लेकिन यहाँ पर बात सिद्धांतों की है। एक आरोपी को आप दोषी मानते हैं, एक को नहीं। आरोपी होने की वजह से state machinery दोनों के ही ख़िलाफ़ खड़ी है। तो अगर आरोपियों के अधिकारों की रक्षा नहीं होगी तो निर्दोष आरोपी भी suffer करेंगे। और इसलिए state power के सामने आरोपियों के अधिकारों की रक्षा ज़रूरी है, चाहे वह ज़्यादातर cases में bail  का अधिकार हो, या legal representation का।

कई क़ानूनी प्रावधान नागरिकों के different groups के बीच के power को address करने के लिए भी बनाए जाते हैं। इनमें से कुछ well-known क़ानून हैं consumer protection act, SC/ST prevention of atrocities act, Dowry prevention और workplaces में women के sexual harassment को रोकने से संबंधित क़ानून जिसे अक्सर POSH act कहा जाता है – prevention of sexual harassment act. अगर बिलकुल technically देखा जाए तो इन क़ानूनों से जो achieve करने की कोशिश की जा रही है, उसके लिए इतने specific क़ानूनों की कोई जरूरत नहीं होनी चाहिए। SC/STs पर atrocities रोकने के लिए normal criminal law के प्रावधान काफ़ी होने चाहिए, और उसी तरह workplace sexual harassment से deal करने के लिए sexual assault से related दूसरे क़ानून काफ़ी होने चाहिए। फिर ये special क़ानून क्यों हैं? कई लोग कहेंगे कि vote bank के लिए हैं। अब हो सकता है कि कुछ क़ानूनों का vote bank के लिए इस्तेमाल होता हो समय-समय पर। लेकिन इस तरह के क़ानूनों के पीछे सिद्धांत vote bank का नहीं है। सिद्धांत power difference को address करने का है। इस case में power difference state और नागरिकों के बीच का नहीं है, बल्कि नागरिकों के different groups का है। इन cases में जो लोग crime करते हैं वे invariably victim से ज़्यादा powerful होते हैं socially। In fact, जिस rates से ये crime होते हैं, उसकी वजह ही यही है कि दो group के लोगों में इतना power difference है। जब औरतों का sexual harassment होता है, तो उसे और तरह के workplace harassment की तरह treat नहीं किया जाता। ज़्यादातर लोग इसे natural मानते हैं – ये सब तो चलता रहता है। उसके ख़िलाफ़ कोई victims का साथ नहीं देता, और प्रायः perpetrators organization में ज़्यादा ऊंचे position वाले men होते हैं। तो पूरी organization भी उनको बचाने में अपना भला समझती है। जैसे state power के खिलाफ़ आम आरोपियों को सहायता की ज़रूरत होती है, वैसे ही ऐसे cases में victims को अपने powerful opponents के ख़िलाफ़ ज़्यादा सहायता की ज़रूरत है, क्योंकि normal क़ानून इस power difference को ध्यान में रखकर नहीं बने हैं। Dowry harassment, दलित और बहुजनों के ख़िलाफ़ crimes में भी victims और perpetrators में ऐसे ही differences होते हैं, और ये special क़ानूनों की ज़रूरत इसलिए पड़ी क्योंकि ये clear था की normal क़ानून इस power difference को address नहीं कर पा रहे हैं।

अगर इस सिद्धांत को मानना आपके लिए मुश्किल हो रहा है क्योंकि इन क़ानूनों को लेकर लोगों के अक्सर strong emotional reaction होते हैं, तो consumer protection act का उदाहरण शायद ज़्यादा आसान होगा मानना क्योंकि इसको लेकर लोगों का ज़्यादा emotional reaction नहीं होता है। अगर किसी बड़ी कंपनी ने किसी उपभोक्ता के साथ cheating की, उसे गलत सामान बेचा, तो वह क़ानूनी तौर पर गलत है, लेकिन कितने आम लोग किसी कंपनी को court में ले जाकर case जीत पाएंगे। और उतने बड़े-बड़े lawyers को hire कर पाएंगे, जो उन companies के पास हैं case जीतने के लिए। Technically, cheating के ख़िलाफ़ कानून हैं, लेकिन वो इस power difference को address नहीं करते हैं। इसलिए consumer protection act उपभोक्ताओं के लिए ये काम थोड़ा आसान बना देता है।

इस तरह के क़ानूनों को लेकर लोगों का focus अक्सर ही इन दो चीज़ों पर रहता है कि इससे समस्या 100% solve नहीं हो जाती, और उसका दुरुपयोग होता है। और इसकी दुहाई देकर लोग अक्सर  Dowry prevention, POSH और SC/ST atrocities prevention acts के खिलाफ़ रहते हैं। लेकिन अगर ऐसा है तो फिर से consumer protection act के बारे में सोचिए, जिसको लेकर शायद emotional response उतना तगड़ा नहीं होगा और  आप शांति से सोच सकते हैं। क्या 100% consumer protection हो जाता है इससे, या क्या consumers इसका misuse नहीं करते हैं। जवाब है कि 100% consumer protection नहीं हो पाता – कई लोगों के लिए consumer courts भी बहुत बड़ा झंझट हैं, और हाँ, हैं उपभोक्ता जो इसका गलत इस्तेमाल करने की कोशिश करते हैं, खास कर छोटी कंपनियों के ख़िलाफ़ जिनके पास बड़ी कंपनियों जितनी power नहीं है। लेकिन अगर ये क़ानून चला जाएगा तो क्या दुनिया में 100% justice आ जाएगा। नहीं – बल्कि कंपनियाँ लोगों को ज़्यादा cheat करने लगेंगी। तो 100% goal achieve नहीं होना, या misuse की possibility होने का मतलब यह नहीं है कि हम powerless लोगों को powerful के ख़िलाफ़ क़ानून के ज़रिए protect करने की कोशिश छोड़ दें। हाँ, हमें 100% goal achieve करने के लिए, और misuse रोकने के लिए भी प्रयत्न ज़रूर करते रहने चाहिए।

ये episode लिखने में मुझे कई महीने लगे। ये बहुत difficult topic है। मुझे नहीं पता कि मैं इसे समझाने में कितनी successful ऱही हूँ लेकिन मुझे कोशिश करनी थी। क्योंकि power और privilege को समझना – privilege पर हमने इस episode में बात नहीं की – लेकिन इनको समझने के बाद मेरा दुनिया को देखने का तरीका ही बदल गया था। और जैसा मैंने शुरु में कहा था कि ये हमारे समाज की बुनियाद में ऐसा गुंथा हुआ है कि हमें दिखता नहीं है। लेकिन एक बार आपको दिख गया तो फिर आप इसको अनदेखा नहीं कर सकते। अगर उस process में इस episode से थोड़ी सी भी मदद मिले तो ये successful होगा। और यह भी संभव है कि कई लोग इस episode के content और इसके implications की वजह से मुझपर गुस्सा करें। ऐसे होता है तो माफ़ी चाहती हूँ, लेकिन सच uncomfortable होता है। ये मेरा किया-धरा नहीं है। So, don’t shoot the messenger.

बहुत-बहुत धन्यवाद ये episode देखने के लिए। आशा है आगे-पीछे वाले episodes भी आप देखेंगे।

Featured Image Credit: Photo by Kalea Morgan on Unsplash

Time Pass

Conspicuous by Absence

A couple of things are conspicuous by their absence in our house. And they mark us as still not settled in our domestic life.

The first one is a clock. As more and more screens have started showing time, and more and more people (including older folks) have become glued to the screens, we don’t hear as many complaints about it now. But until about a decade earlier, many visitors used to exclaim when they tried to get hold of the elusive, forever slipping time at our home, “You don’t have a clock in your house! How odd?”

The origin of this lifestyle quirk is well-established. In the initial years of our marriage, I and Abhaya could never quite agree on what kind of clock we wanted in our house. He fancied antique-looking grandfather clocks and I liked lighter, modern ones. Unlike in many other cases, we went for a most amicable solution to this disagreement. Kept postponing the decision. Until not just us, but even parents and other clock-desiring visitors started relying on having their phones in person all the time. While we have avoided making our homes too smart (no Alexa or equivalent), now, even the TV’s screensaver shows the time. So, no clocks for us, ever.

The second item is a bit more complicated to explain. We have two coffee tables, but no dining table in our home. One of the justifications, if not reasons, behind it is that I always like free space at home. If both living and dining areas are fully furnished, you basically are left with no space outside the rooms in most apartment flats. Also, we never developed a sit-down-to-eat routine. We invariably watch TV (these days, it means OTT) while eating. The sofa and coffee table are our friends there. So, really, the only time the dining table could be used is when there are visitors. And between visitors and hosts, the dining table (especially the 4-seater ones, which are size-wise more suitable for most apartment flats) almost always seems to fall short. So, then you have people scrambling for other kinds of chairs, or eating in turns (men first, hosting women last kind of inevitably patriarchal arrangements). If you do get a 6-seater one, with a larger visiting or hosting party it still falls short, and to top that, at all other times, it mocks you by occupying the last vestiges of free space in a two-person household. If you find one of those compact 6-seater ones, you have no space left to actually keep food on the table, when there are 6 eaters on the table. Finally, I have to put the most important part of the blame where it is due. On my parents’ huge 6-seater dining table. Even for their fairly spacious dining hall, two of its chairs have forever been stuck against a wall, totally unusable. And the rest of the huge dining table has become something of a store-room. Anything and everything that comes into the house, and one is not sure where it should go, gets dumped on that dining table. People, what can I say? I am scarred for life! And the situation is further helped along by Abhaya’s natural way of handling things being postponing any big decisions. A dining table is big, trust me!

While well-wishers no longer care for the clock, I think many of them still feel that we are not quite settled in our life yet. We don’t have a dining table, after all. Once even a small kid wondered what stage of life we were in that we did not have a dining table. There is nothing I can offer to them except my apologies. Settling down with a dining table doesn’t seem to be our cup of tea (or bowl of rice!) But I assure you, you will be fed well if you visit us.