politics · Thoughts

सरकार और नागरिक बराबर नहीं हैं।

सरकार एक संस्था (इन्सटीट्यूशन) है।
नागरिक एक व्यक्ति-मात्र है।

सरकार के पास बहुत पावर होती है, क्योंकि उसे देश चलाना होता है।
एक नागरिक के पास वह पावर नहीं होती। इसलिए उसे संविधान ने मौलिक अधिकार दिए हैं, ताकि सरकार की पावर का इस्तेमाल नागरिक के ख़िलाफ़ ना होने लगे।

चूँकि सरकार एक पावरफुल संस्था है, नागरिकों के लिए पारदर्शी रहना उसकी ज़िम्मेदारी है।
चूँकि नागरिक एक व्यक्ति-मात्र है और उसके पास सरकार जैसी पावर नहीं है, उसके पास अधिकार हैं जीवन, स्वतंत्रता और निजता के (rights to life, liberty, and privacy). ये अधिकार नागरिक के पास सरकार के ख़िलाफ़ भी उपलब्ध हैं, बल्कि ख़ास कर सरकार के ख़िलाफ़। एक नागरिक को सरकार से सवाल पूछने का भी अधिकार है।

जब सरकार नागरिकों के सवाल और शिक़ायतें नहीं सुनती, या उनसे बात नही करती, तो वह गलत है, क्योंकि सरकार का अस्तित्व ही नागरिकों के लिए है। नागरिकों को सुनना और उनकी शिकायतों को दूर करने के लिए क़दम उठाना ही सरकार का काम है।
जब एक नागरिक किसी दूसरे नागरिक की बात नहीं सुनना चाहता या उससे बहस नहीं करना चाहता – जैसे कि सोशल मीडिया पर, वह गलत नहीं है। ये उसका काम नहीं है। उसे अपनी ज़िंदग़ी अपने तरीके से जीने का अधिकार है।

चूँकि सरकार एक पावरफुल संस्था है, उसे अपनी हर शाखा, हर विभाग, हर हिस्से के काम की ज़िम्मेदारी लेनी होती है।
चूँकि नागरिक व्यक्ति-मात्र है, सरकार एक व्यक्ति की गलती की वजह से किसी और के अधिकार नहीं छीन सकती है। सरकार के पास गलती करने वाले को क़ानूनी तरीके से सजा देने के कई तरीके उपलब्ध हैं।

ऊपर की गई बात का एक महत्वपूर्ण निष्कर्ष ये है कि “लोग भी तो गलती करते हैं” कह के सरकार (या किसी सरकारी विभाग जैसे कि पुलिस) को कानून तोड़ने का, नागरिकों पर हमला करने का, या संविधान को भंग करने का अधिकार नहीं मिल जाता है।

जब सरकार नागरिकों से प्रतिरोध का अधिकार छीन लेती हैं, या उन्हें सार्वजनिक स्थानों के उपयोग से वंचित करती है, तो वह फा़सिस्ट कहलाई जाएगी। सरकार के पास नागरिकों ये सह सब छीनने का अधिकार नहीं है।
लेकिन जब मैं trolls को अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स से या मेरे घर से दूर रहने को कहती हूँ, तो मैं सिर्फ अपने जीवन, स्वतंत्रता और निजता के अधिकारों का इस्तेमाल करती हूँ। और अपने संपत्ति के अधिकार का भी। मैं एक व्यक्ति हूँ। सरकार नहीं। मुझे किसी को अपने घर में या अपने अकाउंट में आने देने की ज़रूरत नहीं है। सरकार को भी नहीं, जब तक वह क़ानूनी तरीके से नहीं आती।

इसलिए जब भी मैं नागरिकों के अधिकार की बात करूँ, मुझसे पलट कर सरकार के अधिकारों की मांग ना कीजिए। सरकार को अधिकारों की ज़रूरत नहीं है। सरकार के पास ऐसे ही बहुत पावर है। सरकार की पावर पर अंकुश लगाने की ज़रूरत है। और नागरिकों के अधिकार वह अंकुश लगाते हैं।

politics · Thoughts

Citizens and government are not equivalent.

Government is an institution.
Citizens are individuals.

Government has lots of power because they are supposed to run the country.
Citizens don’t have those powers. So, they have constitutionally guaranteed rights, so that government’s powers don’t turn against the citizens.

Because government is an institution with powers, it has a responsibility to be transparent to the citizens.
Because citizens are individuals with no power to compare that with government, they have a right to life, liberty, and privacy. Even and especially from the government. And they have a right to question the government.

When government refuses to engage with citizens and their complaints, they are wrong, because their very existence is for the citizens. This engagement is their job!
When a citizen doesn’t want to engage with another citizen in a social media debate, they are not wrong. It’s not their job. They are just living their life as it suits them.

Because government is an institution with lots of power, it has to take responsibility for the actions of each of its arms.
Because citizens are individuals, government can’t use one person’s wrongdoings to take away the right of other individuals. It has enough powers to punish the wrongdoers according to the law.

Corollary to the above, “But people also made mistakes” is not a justification for government (or its functionaries like police) to break the law, assault the citizens, or violate the constitution.

When the government denies its citizens the right to protest, or the right to use a public space, it is being fascist. Government does not have the right to deny these to the citizens.
When I ask the trolls to stay away from my wall, or from my home, I am only exercising my right to life, liberty, and privacy. Also, my property rights. I am not government. I don’t have to allow you into my space.

So, every time I talk about the rights of citizens, don’t turn it around and ask about the rights of the government. Government doesn’t need rights. It has too much power. It needs restraint. And citizens’ rights are those restraints.

Literature · politics · Thoughts

An Islamist and a Drunkard

Poets and writers use imagery to convey their points. This isn’t such an extraordinary point to grasp. Even if you are not a literature enthusiast, you have heard and sung songs. Bollywood songs, at least? Pardon me, my examples might be slightly old because I can’t seem to recall the lyrics of more recent songs. But “maine poochha chaand se ki dekha hai kahin” does not mean that the hero of the movie actually asked a question to the moon. It would make him delusional. He intends to convey that what he thinks about his beloved’s beauty must be believed because it isn’t just his bias, everyone – even those who may be famed for their beauty – agree with him. When they sing in the movie Border that “hamare gaon ne, aam ki chhaon ne, purane peepul ne, baraste badal ne” have asked them when they are returning, they didn’t really mean that they had received a letter written by their village, mango or peepul trees, or the clouds and rain. They are really talking about the people back home.
 
I feel stupid that I am even trying to explain this. But the world has come to this. I have to make these arguments so that I can extend it to Faiz and his famous poem “Hum Dekhenge”.
 
The poem uses Islamic imagery to actually convey the ideas of revolution. But oh, what about sentences like “sab but uthwaye jayenge” and “bas naam rahega allah ka”? Well – read the full poem
 
जब अर्ज़-ए-ख़ुदा के काबे से
सब बुत उठवाए जाएँगे,
हम अहल-ए-सफ़ा मरदूद-ए-हरम
मसनद पे बिठाए जाएँगे,
सब ताज उछाले जाएँगे,
सब तख़्त गिराए जाएँगे।
 
On “sab but uthwaye jayenge”, what will the icons removed from Kaba be replaced with? With pure-hearted (अहल-ए-सफ़ा), but hitherto powerless people (मरदूद-ए-हरम). The icons in Kaba represent not the actual, physical statues, but the powerful rulers who are repressing the people. And if there is any confusion still, read the last two lines. All the crowns will be thrown away, all the thrones smashed. There is *nothing* religious about it! It is a very strong revolutionary political statement, however.
 
बस नाम रहेगा अल्लाह का,
जो ग़ायब भी है हाज़िर भी,
जो मंज़र भी है नाज़िर भी।
उट्ठेगा अनल-हक़ का नारा,
जो मैं भी हूँ और तुम भी हो।
 
And “bas naam rahega allah ka” comes after that. Representing not an Islamic rule, but that just state of the world where people would be important, not the powerful rulers. “Jo gayab bhi hai, haazir bhi, jo manzar bhi hai naazir bhi” might actually make Islamists raise their eyebrows. The later part of this stanza is even more telling. “Uthega anal-haq ka naara”. Anal-haq translates roughly to “I am the truth”. And guess what, the Sufi who had spoken this had been executed by the orthodox keepers of Islam because they found it blasphemous. If Faiz were an Islamist, what on earth was he doing with Anal-haq? You know who should identify with Anal-haq? Those who understand “Aham Brahmasmi” (अहम् ब्रह्मास्मि).
 
Faiz was actually a communist. He may or may not have been a card-carrying atheist but he definitely was not an Islamist in any sense of the word (positive or negative).
 
Why did Faiz have to use Islamic imagery though, you ask? My answer is why should he not? Using imagery well is a poet’s craft. Faiz was a terrific poet, great at his craft, he knew Islam and Islamic traditions well, and he has used the imagery to convey his point powerfully. There is nothing to be judged here.
 
Talking of imagery and a poet’s use of imagery not representing anything personal about him, I can’t help but talk of Harivansh Rai ‘Bachchan’ and his famous creation – Madhushala. If you are young or unfamiliar with Hindi literature, you may have to know him as Amitabh Bachchan’s father. But much before Amitabh Bachchan, the actor, was this national hero, Harivansh Rai ‘Bachchan’ was a stalwart of Hindi literature. His most famous creation is Madhushala – a book-length poem written as a collection of “rubai”s. Rubai is a specific form of verse. Some people may be more familiar with it because of Manna Dey’s rendition of the part of the book. The thing with this book is that it uses the imagery of a tavern throughout. And Madhushala is not the only book in which Bachchan employs this imagery. If you were to extend the logic that declares Faiz or “Hum Dekhnge” to be Islamist, Madhushala would be a book promoting unfettered drinking, and you would think that the writer would have been a career drunkard.
 
But Bachchan was as much of a drunkard as Faiz was an Islamist. Bachchan was a teetotaller.
 
And Madhushala is as much about drinking as “Hum Dekhenge” is about religion. See a few verses here –
 
Need a lesson on focus?
 
मदिरालय जाने को घर से चलता है पीनेवला,
‘किस पथ से जाऊँ?’ असमंजस में है वह भोलाभाला,
अलग-अलग पथ बतलाते सब पर मैं यह बतलाता हूँ –
‘राह पकड़ तू एक चला चल, पा जाएगा मधुशाला।’
 
This could be an entrepreneur’s anthem.
 
बहती हाला देखी, देखो लपट उठाती अब हाला,
देखो प्याला अब छूते ही होंठ जला देनेवाला,
‘होंठ नहीं, सब देह दहे, पर पीने को दो बूंद मिले’
ऐसे मधु के दीवानों को आज बुलाती मधुशाला।
 
And if you want to hurt Hindu sentiments.
 
बने पुजारी प्रेमी साकी, गंगाजल पावन हाला,
रहे फेरता अविरत गति से मधु के प्यालों की माला’
‘और लिये जा, और पीये जा’, इसी मंत्र का जाप करे’
मैं शिव की प्रतिमा बन बैठूं, मंदिर हो यह मधुशाला।
 
Or in general the keepers of religion.
 
कोई भी हो शेख नमाज़ी या पंडित जपता माला,
बैर भाव चाहे जितना हो मदिरा से रखनेवाला,
एक बार बस मधुशाला के आगे से होकर निकले,
देखूँ कैसे थाम न लेती दामन उसका मधुशाला!।
 
Why would Bachchan use imagery of a tavern to talk about the complexities and lessons of life? Well, because he was great at his craft and could do a phenomenal job at it.
 
Madhushala was a comfort book during my time at IIT Kanpur.
 
In today’s world, it would perhaps be banned.
politics

Basic Business #2: Constitutional Rule

Original in Hindi here.

Let’s talk a bit more about our government. Our country is not only a democracy but also a republic. Being a republic means that the country’s sovereignty is not vested in any one individual, and it is also not hereditary.  In plain words, we don’t have any king to reckon with. Our sovereignty is vested in our citizens. The person whom we elect to be the country’s chief (the President) is not our master. They are only a symbol of our sovereignty. They can’t pass on the post to their descendants. They also can’t occupy it any longer than what they are elected for.

We are so used to the idea of India being a republic that we tend to take it for granted. But if you think for a moment, even our former masters – the British – do not have a republic. Their sovereignty is vested in their monarch and that position is hereditary. We also didn’t become a republic just with independence. After our independence, until we adopted the new constitution on 26th January 1951 and declared ourselves a republic, Queen Victoria – sitting in London – was still our queen.

Although it is difficult for a country to not be democratic, and still be a republic, it is entirely possible to have democracy without the country being a republic. The best way to understand this would be through examples rather than definitions. The British government is technically a constitutional monarchy. The word “constitutional” is important here. This means that although the monarch is the chief of the country, they can’t run the country on their whims. The country’s government runs according to the constitution. And that constitution doesn’t accord a whole lot of power to the monarchy. Most of the real state machinery is in the hands of a democratically elected government. And that elected government too must follow the constitution. Because the government is constitutional, it technically being a monarchy doesn’t make a whole lot of difference. The royal family can’t act on its whims and the country is in reality governed for the citizens and by the citizens through democratic means.

But constitutionality is important not just to regulate a monarchy. Our republic and democratic government are also constitutional. We elect our leaders in a constitutional manner. And after they are elected and become part of the state machinery, they can’t just start ruling whimsically. They must run the government in accordance with the constitution.

Let’s see why constitutionalism is important. It is important because it doesn’t matter how people running a state are selected for their jobs, they can’t always do everything right on their own. Whether the government democratic or not, the people who are a part of state machinery have certain powers. And when people get power, they invariably tend to misuse it. Constitutionality is a way to reduce the possibility of such misuse. Even if we have chosen the best person on the earth to be our ruler, they can still do something that is disastrous for people. Because they are humans and humans make mistakes. It happens to all of us that sometimes we make a decision or do something with the best of the intentions, but the results are disastrous. So, even the best person running the government, if they rule with only their judgment to rely on, can commit big blunders whose consequences may have to be borne by a large number of people. And if we have people in the machinery whose intentions were not right in the first place, then the situation is even worse. Hence, we need a constitutional government. It ensures that governance happens in accordance with constitutional principles and laws and is not a slave to someone’s whims.

We can discuss several aspects of the constitution and the state machinery, but let me stop for a moment and tell you why I have been delivering these Civic lessons here. I want to draw your attention to an important idea.

And that idea is this. In a constitutional democratic system, whether it is a republic or a monarchy, the state may have a lot of power, but it doesn’t mean that they are free to use that power in any manner they want. It also doesn’t mean that people powering the state machinery have some sort of divine knowledge of right and wrong. The relationship between the state and the people is not that of a parent and a child. It cannot be assumed that whatever the government thinks or does must be right for the citizens. (Some would say even a parent-child relationship should not be thought of like that, but we can discuss that some other time.) The relationship is also not that of a dictator and their subjects, where the ruler is the master and the subjects must obey them unconditionally. It is important to understand the relationship between the citizens and the state well. The government is not our parent. It is also not our master.

Because our culture fosters almost unbridled respect for elders and authority figures, people often think that they owe the same to their government or political leaders as well. They think that they shouldn’t be speaking against the government or shouldn’t be asking tough questions to their leaders. That’s not right. People In politics or government are also just humans. They have been given certain powers because some people must run the state machinery to keep the society running smoothly. They don’t have any divine rights to that power. They don’t get to dictate our lives. They are not there to lord over us. They are there, as our representatives, to run the government constitutionally.  They are not above the common citizen of this country. Even if they are the president of the country, or the prime minister, or a senior bureaucrat, a minister, an MP or an MLA, we don’t owe them any special respect. Those who really like their work, or just feel like it, are free to give them extra respect. Those who don’t feel like it don’t need to treat them any differently than the other fellow citizens. But because this is a democracy, and our constitution gives us the right, every citizen does have the right to ask them questions. And to exercise this right, we don’t need to fulfill any conditions set by them. We don’t need to vote for them, we don’t need to obey them, we don’t need to do anything to earn their favor. If we are the citizens, and they are a part of the government machinery, they owe us the answers. Period.

If we do not remember this and kowtow to the government or the people running the government as if they were our masters, if we tolerate their unconstitutional autocratic decisions and deeds, then we commit a grave blunder of ignoring and weakening the important rights we have earned after a long and hard fight.

politics

Basic Business #1: Independence and Democracy

Original in Hindi here.

We Indians fought the colonial rulers and obtained our independence, our history books have taught us. After that, we became a democratic country. However, it is necessary to take a closer look at some historical events and facts.

All of us celebrate Independence Day today. Supposedly independence from the British (or some other foreign powers in places like Goa and Pondicherry). But that is not true for all of India. At the time of independence, there were many princely states in India, some of which were significantly large. People in these states were governed by Indian kings.

We earned another fantastic gift in 1947. A democratic government. Most of us tend to equate independence with democracy. We assume that democracy was a natural consequence of independence. However, the departure of the foreigners as the rulers does not guarantee that a democratic government will follow. In Cambodia, the governance of the country was handed over to its king after the French decided to leave the country. Myanmar got a democratic government after its independence, but in just a decade and a half, it was taken over by a military dictatorship. Vietnam’s lot was a single-party Communist dictatorship. Even in the case of Pakistan, the twin of the post-independence India, democracy has been, at best, an intermittent privilege. And as pointed out earlier, in what we today identify as India, not everyone was ruled by the foreigners. They had to earn democracy by removing their very own kings from power! If we look at countries like Canada and Australia, even to this day, their sovereign is the King or Queen of England. But they do have a democratic government. Before quitting Sri Lanka, the British made arrangements for a democratic transition. However, internal fights in Sri Lanka has on several occasions left democracy in the doldrums.

Hence, a few things are important to remember. First, independence from a foreign power is not a guarantee for establishing democracy. Second, having a native government is not equivalent to having a democratic government. We may have an autocracy under a very native king. An even more dangerous possibility is that of a dictatorship under a leader of our own choosing!

This is why we must remain cautious and alert and not take our democracy for granted. We have democracy today not just because the British left. We have it because we also have been able to successfully keep native kings and despots away from power.

politics

बुनियादी बातें #10: प्रिविलेज क्या है?

हमने पिछले हिस्से में बात की थी कि कैसे जिन चीज़ों को हम मेरिट का नाम देते हैं, वे सिर्फ़ व्यक्ति की प्रतिभा का परिणाम नहीं होती, बल्कि उनमें प्रिविलेज का भी बहुत बड़ा हाथ होता है। कुछ मायनों में प्रिविलेज को समझना आसान होता है। जैसा कि शायद मेरे उदाहरण में था। जैसे कि लगभग सभी मानते हैं कि अमीर लोगों के पास गरीब लोगों से ज़्यादा प्रिविलेज होता है। लेकिन इस बारे में थोड़ा और गहराई से समझने की ज़रूरत है, ख़ास कर के तब जब हम नियम, क़ानून, संविधान, सरकारी फैसलों और नीतियों के बारे में अपनी राय देते हैं।

इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात समझने की यह है कि प्रिविलेज का मतलब यह नहीं होता कि आपकी ज़िंदग़ी में कोई समस्याएं या संघर्ष नहीं रहे हैं। अगर एक आम मध्यमवर्गीय, सवर्ण आदमी से कहा जाएगा कि उसके पास प्रिविलेज है तो वह बिदक जाएगा कि कैसा प्रिविलेज। कहेगा कि मैंने ट्यूशन पढ़ा-पढ़ा कर अपनी कॉलेज की फीस दी है, रात-दिन काम करता हूँ, तब परिवार का काम चलता है, और महीने के अंत में फिर भी शायद ही कुछ बचता है। अपना घर बनाने के लिए लोन लेना पड़ेगा और सालों उसे चुकाना पड़ेगा। मेरे पास कैसी प्रिविलेज है?

कम-से-कम दो तरह की प्रिविलेज उसके पास हैं।

चूँकि वह एक सवर्ण है, उसे इस बात की चिंता करने की ज़रूरत नहीं है कि किसी को उसकी जाति की वजह से उसके साथ उठने-बैठने में समस्या हो सकती है। अगर वह ट्यूशन पढ़ाने के क़ाबिल है तो उसे काम देने से लोग इस वजह से मना नहीं करेंगे कि उसके आने से उनका घर अशुद्ध हो जाएगा। अगर वह किसी नौकरी के लिए आपना बायोडाटा भेजेगा तो लोग बिना उससे मिले ही ‘कैटेगरी कैण्डीडेट’ होने की वजह से उसे अस्वीकृत नहीं कर देंगे।

और क्योंकि वह स्त्री नहीं, पुरुष है, उसकी भी प्रिविलेज उसके पास है। किसी के घर जाकर ट्यूशन पढ़ाने के पहले उसे यह नहीं सोचना पड़ता कि कहीं उस घर में कोई उसके साथ बदतमीज़ी तो नहीं करेगा। उसके पास ऑटो और टैक्सी के पैसे ना हों, तो भी वह काफ़ी दूर-दूर तक जाकर नौकरी कर सकता है क्योंकि वह बस में सफ़र कर सकता है, बिना इस बात की चिंता किए कि कोई ना कोई हर रोज़ उसे दबोचने की कोशिश करेगा या अगर वापस लौटने में देर हुई तो सुरक्षित घर लौटने की संभावना ना के बराबर है।

बस में धक्के खाना कोई प्रिविलेज है, आप पूछेंगे। बस में जा पाना, बिना डरे हुए, एक प्रिविलेज है। क्योंकि आपको भले इसके बारे में सोचने की ज़रूरत ना पड़ती हो। लेकिन एक स्त्री को, जो कि बाकी चीज़ों में बिलकुल आपके जैसी हो सकती, हर बार बस में चढ़ने पर सोचना पड़ता है। कई स्त्रियाँ नहीं चढ़ती हैं। कइयों के बस में चढ़ने पर उनके घर वाले रोक लगा देते हैं। तो अगर उनके पास पैसे नहीं हैं टैक्सी करने के लिए या अपनी कार के लिए तो वे कई जगहों पर जा ही नहीं सकतीं।

रोज़मर्रा की ज़िंदग़ी से जूझते हुए आपको इन प्रिविलेजों का परिणाम नहीं दिखता होगा। लेकिन बड़े स्तर पर जब संख्याएं देखी जाती हैं जैसे कि किस तरह के लोगों के पास पावर और पैसे वाली नौकरियाँ हैं, तो उनमें सवर्ण पुरुष हमेशा ज़्यादा होते हैं। सिर्फ सबसे ऊपर के स्तर पर नहीं, हर जगह। इसको मेरिट का मसला बता कर रफ़ा-दफ़ा मत कीजिएगा। क्योंकि हमने पहले ही देखा है कि मेरिट में ख़ुद ही प्रिविलेज का बड़ा हाथ होता है। तो यह एक चक्र सा चलता है। प्रिविलेज से मेरिट मिलती है और मेरिट से और भी प्रिविलेज।

प्रिविलेज होने का मतलब यह नहीं है कि आप अंबानी ही बन गए हैं। आपकी ज़िंदग़ी में कमियाँ हो सकती हैं। अपनी जिंदग़ी की कमियां ख़ुद को दिखती हैं। लेकिन प्रिविलेज की सबसे बड़ी खासियत यह है कि अपनी प्रिविलेज किसी को नहीं दिखती है। क्योंकि वह जिन वजहों से मिलती है वह आपको इतने सहज तरीके से उपलब्ध हैं, कि आप उसके बारे में सोचते भी नहीं है। घर की मुर्गी दाल बराबर वाली परिस्थिति होती है। उसका महत्व समझ में नहीं आता है। इसलिए आप कभी सोचते भी नहीं हैं कि जिन लोगों को वह उपलब्ध नहीं हैं, उनकी ज़िंदग़ी में इससे कितनी ज़्यादा समस्याएँ हो सकती हैं। कोशिश करने पर भी सोचना मुश्किल होता है। याद रखिए कि अगर आप ऐसे समूहों को सदस्य हैं जो कुछ सुविधाओं, कुछ सुरक्षाओं को सामान्य मान कर चलते हैं, क्योंकि उन्हें ये सहज ही उपलब्ध है, जबकि दूसरे समूहों के साथ ऐसा नहीं होता, तो आपके पास प्रिविलेज हैं।

प्रिविलेज कोई एक चीज़ भी नहीं है। अलग-अलग वजहों से प्रिविलेज मिलती है। भारत में बहुसंख्यक धर्म के सदस्य होने से, सवर्ण होने से, या पुरुष होने से आपको प्रिविलेज मिलती है। पैसों से भी प्रिविलेज मिलती है। इसका मतलब यह है कि एक ही व्यक्ति किसी मामले में प्रिविलेज्ड हो सकता है, तो किसी और मामले में अनप्रिविलेज्ड। एक दलित पुरुष अपनी जाति की वजह से एक सवर्ण महिला के सामने अनप्रिविलेज्ड है। लेकिन वह महिला भी अपने लिंग के कारण उस पुरुष के सामने अनप्रिविलेज्ड है। किसी एक व्यक्ति के लिए कभी-कभी एक तरह का प्रिविलेज, दूसरे तरह के प्रिविलेज की कमी को पूरा भी कर सकता है। अगर आपके पास धुरांधार पैसे हैं, और आप दलित हैं, तो शायद कुछ कट्टर सवर्ण भी आपके दरवाज़े पर नाक रगड़ने को तैयार हो जाएंगे। लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि दलितों और सवर्णों के प्रिविलेज का अंतर ख़त्म हो गया। क्योंकि वही सवर्ण दूसरे मध्यमवर्गीय या गरीब दलितों को अपनी बराबरी में नहीं बैठने देंगे। ऐसे ही जब एक महिला राजनीति में शक्तिशाली हो जाती है, तो उसकी बात बहुत से ऐसे लोग सुनने लगते हैं जो कि अपने बराबर की और महिलाओं की नहीं सुनते। लेकिन उतनी शक्ति हासिल करने के लिए या तो उस महिला को किसी और तरह की प्रिविलेज का इस्तेमाल करना पड़ा होगा, या पुरुषों से बहुत ज़्यादा प्रतिभा दिखानी पड़ी होगी। एक अलग सी लगने वाली बात पर ग़ौर करते हैं। क्या आपको कभी लगता है कि राजनीति की शक्तिशाली महिलाएं, ख़ास कर के वे जिन्होंने अपने दम पर अपनी पहचान बनाई है, जो किसी राजनैतिक या अमीर परिवार से नहीं आती, पुरुष राजनीतिज्ञों से ज़्यादा बुरी होती हैं? शायद इसकी वजह यह है कि वैसे पुरुष जो अपने दम पर राजनीति में आगे बढ़ते हैं, किसी राजनैतिक या अमीर परिवार से नहीं आते, बड़े ब्यूरोक्रैट नहीं रहे होते, उन्हें ऊपर चढ़ने के लिए बहुत से बुरे काम करने पड़ते हैं। राजनीति में यह कर पाना उनकी प्रतिभा और मेरिट का प्रमाण है। तो महिलाओं के पास पुरुष ना होने की प्रिविलेज की कमी को पूरा करने का क्या तरीका है? अपने तरह के पुरुषों से बढ़कर वे काम करना जिससे राजनीति में आगे बढ़ सकते हैं!

चलिए ख़ैर, राजनीति को छोड़िए और थोड़ी देर इसपर विचार कीजिए कि आपके पास किस तरह की प्रिविलेज है? और जो है उसके लिए – थोड़ी देर के लिए ही सही – खुश रहिए।

politics

बुनियादी बातें #9: समता, मेरिट, प्रिविलेज

हमने पिछला भाग इस सवाल पर छोड़ा था कि समता का मतलब क्या है? और मुझे आशा है कि आपका निष्कर्ष यह था कि सिर्फ सबके ऊपर नियम क़ानून लगाना समता नहीं है। उससे ज़्यादा कुछ चाहिए ताकि जिस समता का अभी समाज में अभाव है, वह लाई जा सके।

लेकिन समाज में समता लाने का भी क्या मतलब है? क्या इसका मतलब यह है कि सारे लोग बिल्कुल एक जैसे हो जाएंगे? कि उनकी सोच-समझ, हाव-भाव, सूझ-बूझ, क्षमताएँ, इच्छाएँ सभी एक जैसी होंगी? ये थोड़ी पागलपंथी वाली बात लगती है। हम सब जानते हैं, अपने अनुभव से, कि ऐसा नहीं हो सकता है। समता का मतलब समानता नहीं होता है। सब लोग एक जैसे नहीं होते।

तो अगर सब लोग अलग-अलग होते हैं तो ज़ाहिर है कि उनकी ज़िंदग़ी भी अलग-अलग होगी ही। तो फिर समता का मतलब है क्या?

जवाब यह है कि समता का अपने आप में ज़्यादा कुछ मतलब नहीं होता। समता कोई इंसान के अंदर की चीज़ नहीं होती। समता हमारे समाज और सिस्टम का एक पहलू होती है। और इसलिए जब भी हम समता की बात करते हैं तो यह पूछना पड़ता है कि भाई! किस चीज़ की समता? अगर किसी ने कह दिया की हर चीज़ की समता, तो दुबारा पूछना पड़ता है कि किस-किस चीज़ की समता?

जैसे कि एक तरह की समता होगी आर्थिक समता। और फिर पूछना पड़ेगा कि आर्थिक समता का मतलब क्या है? क्या इसका मतलब है कि सबके पास बराबर पैसे होने चाहिए? अगर हम ऐसा समाज बना पाते जिसमें सबके पास बराबर पैसे होते और सब लोग अपना-अपना काम करते और मिल-जुल कर खुशी-खुशी रहते, तो फिर बात ही क्या होती? लेकिन सपने देखना छोड़ते हैं और यह मान लेते हैं कि आर्थिक समता का मतलब यह नहीं हो सकता कि सबके पास बराबर पैसे हैं।

आर्थिक समता का दूसरा मतलब यह हो सकता है कि अगर पैसे बनाने का कोई तरीका है तो वह सबको उपलब्ध है। जैसे कि अगर कोई नौकरी उपलब्ध है तो उसे पाने का हक़ सबको है। अगर कोई बिज़नेस है जो आप शुरू कर सकते हैं, तो उसे शुरु करने से मुझे भी कोई नहीं रोक सकता है। चलो ये तो ठीक है, लेकिन इसके बाद अगला सवाल आता है कि जब एक नौकरी हो और उसे पाँच लोग पाना चाहें तब कोई क्या करे? दूसरी चीज़ यह भी है कि सब लोग समान तो होते नहीं, तो फिर यह भी ज़रूरी नहीं कि सब लोग वह नौकरी करने के क़ाबिल हों। कुछ लोग बिलकुल क़ाबिल नहीं होंगे, और कुछ कम, तो कुछ ज़्यादा।

इन दोनों वजहों से हम समता के सिद्धांत के साथ मेरिट की बात करना शुरु करते हैं। कि नौकरी उसे मिलेगी जिसके अंदर उस नौकरी के लिए सबसे ज़्यादा क़ाबिलियत है, यानि जिसके पास सबसे ज़्यादा मेरिट है। अब मेरिट के विचार से हम इतनी अच्छी तरह से वाक़िफ़ हैं कि इसमें कोई पेचीदगी हो सकती है, ऐसा हम कभी सोचते ही नहीं हैं। लेकिन ज़रा एक मिनट ठहरिए और सोचिए कि मेरिट का मतलब क्या है? क्या जो तरह-तरह की परीक्षाएँ हमने बना रखी हैं – पढ़ाई के लिए, नौकरियों के लिए – उनके परिणाम मेरिट हैं? अगर वह पक्का मेरिट है, तो कहीं भी सरकारी नौकरी में, जिसके लिए इतना कॉम्पीटीशन होता है और इतनी परीक्षाएँ पास की जाती हैं, कोई ऐसा इंसान नहीं होता जो कि सही से काम नहीं करता। लेकिन ऐसे लोग भर-भर के होते हैं। अब आप कहेंगे कि उन्हें काम करना आता तो है, लेकिन वे करना नहीं चाहते हैं। तो किसी काम को सही से करने के लिए अगर काम करना चाहना ज़रूरी है तो मेरिट की परिभाषा में वह भी तो शामिल होना चाहिए? जो इंसान कुर्सी पर बैठ कर काम नहीं कर रहा है, उसकी जगह अगर कोई ऐसा इंसान वहां होता जिसके नंबर उससे थोड़े कम आए होते, लेकिन जो काम करना चाहता, तो वह बेहतर काम कर रहा होता।

तो ज़ाहिर है कि मेरिट की जो भी परिभाषा हमने निकाली है वह ऐसी कोई ऑब्जेक्टिव तो नहीं है। उससे किसी काम के लिए इंसान की क़ाबिलयत का सही पता चले, यह ज़रूरी नहीं है। इस बात को ध्यान में रखते हैं, लेकिन आगे भी बढ़ते हैं।

माना कि हमारी मेरिट की परिभाषा बहुत सटीक नहीं है, लेकिन वह सबके लिए समान तो है? हर काम के लिए हमें सबसे अच्छा व्यक्ति मिले या नहीं मिले, लेकिन नौकरी कर के जीवनयापन करने का जो हक़ सब लोगों को है, उसे पाने के लिए सबको एक ही तराजू पर तो तौला जा रहा है? तो ये काम तो हम सही कर रहे हैं। लेकिन क्या यह भी समता के लिए काफ़ी है?

एक उदाहरण लेते हैं। जब मैं दसवीं की परीक्षा दे रही थी, तो उस पूरे साल में मेरे पास पढ़ाई करने के अलावा कोई काम नहीं था, कोई ज़िम्मेदारी नहीं थी। मैं एक होस्टल में रहती थी, जहाँ मेरे आस-पास के और लोग भी उतनी ही मुस्तैदी से परीक्षा की तैयारी कर रहे थे। हमारे शिक्षक काफ़ी क्वालिफाइड थे, और वे हर समय हमारे लिए उपलब्ध भी थे। परीक्षा के समय तक आते आते, मैंने इतने सारे सैंपल पेपर सॉल्व किये हुए थे कि किसी भी विषय की परीक्षा में शायद ही कोई प्रश्न ऐसा था जिसका उत्तर मैंने पहले कई बार लिखा हुआ ना हो।

यही परीक्षा कुछ ऐसे बच्चे भी दे रहे होंगे जिनके घर में उनकी पढ़ाई के लिए कोई शांत जगह तक नहीं होगी, जिनको घर के काम करने पड़ते होंगे, या शायद घर के बाहर भी – खेत में, दुकान पर, जिनके स्कूलों में हर विषय के शिक्षक भी नहीं होंगे, होंगे भी तो काम पर आते नहीं होंगे, ठीक से पढ़ाते नहीं होंगे।

क्या उस परीक्षा में मेरे नंबर उन बच्चों से ज़्यादा आए, तो कोई आश्चर्य की बात है? क्या यह मेरिट सिर्फ मेरी प्रतिभा का नतीजा था? नहीं। इस मेरिट में एक बड़ा योगदान उन बच्चों की तुलना में मेरी प्रिविलेज का भी था।
कुछ और लोग भी वही परीक्षा दे रहे होंगे जिनका प्रिविलेज मुझसे भी ज़्यादा था। हमारे होस्टल में गर्मियों में बिजली चली जाती थी तो पंखा नहीं होता था, जबकि महानगरों में पल रहे अमीर बच्चों को पास ए. सी. रहा होगा। हमारे ही स्कूल के लड़के भी हमसे थोड़े ज़्यादा प्रिविलेज्ड थे, क्योंकि वे गर्मी में अपने कमरों से बाहर निकल कर पढ़ सकते थे या खिड़की खुली रख सकते थे। लेकिन लड़कियों को यह आज़ादी भी नहीं थी, उनकी ‘सुरक्षा’ के लिए। तो पसीने में नहा रहे हों या गर्मी से दम फूल रहा हो, पढ़ाई करनी है तो उसी बंद, गर्म कमरे में करनी है।

हम अपने से ज़्यादा प्रिविलेज वाले लोगों को देख कर अपना प्रिविलेज भूल जाते हैं। लेकिन यह मत भूलिए कि मेरिट में प्रिविलेज का बड़ा हाथ होता है।

कुछ लोग उन लोगों का उदाहरण देकर जिन्होंने प्रिविलेज ना होने पर भी सफलता हासिल की है, यह साबित करना चाहते हैं कि प्रिविलेज होने या ना होने से कोई फ़र्क नहीं पड़ता है। इसके जवाब में अंग्रेज़ी की एक अच्छी कहावत है: Exception that proves the rule – अपवाद जो सिद्धांत को साबित करता है। कैसे? इस बात से कि कम प्रिविलेज वाले लोगों की सफ़लता के उदाहरण इतने कम होते हैं कि वे हेडलाइन बन जाते हैं। इससे यह साबित नहीं होता कि प्रिविलेज से फ़र्क नहीं पड़ता। इससे यह साबित होता है कि प्रिविलेज की कमी पूरा करने के लिए उनके अंदर की प्रतिभा को और भी ज़्यादा मजबूत होना पड़ता है। इसलिए बिना प्रिविलेज के बहुत कम लोग वह सफलता प्राप्त कर सकते हैं। अगर उतनी प्रतिभा के साथ उन्हें प्रिविलेज भी मिला होता, तो वे और भी बेहतर करते। और जिन प्रिविलेज वाले लोगों ने उनके जितनी सफलता पाई है, उनकी अंदरूनी प्रतिभा कहीं कम है।

तो याद रखिएगा कि मेरिट की जो भी परिभाषा हो, लेकिन उसका समीकरण कुछ ऐसा होता है:

मेरिट = प्रतिभा + प्रिविलेज

तो जहाँ समता की समस्या हम मेरिट के बल पर सुलझाने की कोशिश कर रहे थे, वहाँ प्रिविलेज की पेचीदगी आ गई है। प्रिविलेज कहाँ से आता है? इसके बारे में हम अगली बार बात करेंगे।