Own Poetry Hindi

चिंगारी

एक चिंगारी सुलगी तो थी
फिर बुझ गई।
 
कुछ भी जला नहीं,
कोई मरा नहीं।
 
बस किसी की जान
थोड़ी उलझ गई।
Photo by Paul Bulai on Unsplash
Advertisements
Own Poetry Hindi

देवी

तुम्हें देवी का दर्ज़ा दिया है ना हमने?

तो देवी!

तुम मंदिर में रहो।
जिसका हम अपनी सुविधा से
दरवाज़ा दोपहर में बंद कर के
अपनी नींद पूरी करने जा सकें।

और रात में जहाँ मर्ज़ी हो
जाकरअपनी हवस बुझा सकें।

और सुबह माथा टेक कर मंदिर में
करनी का बोझ भुला सकें।

देवी!

तुम सड़कों पर मत आओ,
हमारे किये की याद मत दिलाओ,
जवाब के लिए आवाज़ मत उठाओ।

क्योंकि मंदिर का नहीं भी सही,
पर जेल का दरवाज़ा तो है ही।
और वह चौबीस घण्टे बंद रहता है।
और तुम्हें मंदिर की मूरत से भी
ज़्यादा मूक कर सकता है।

देवी!

अपने घर वापस जाओ।
समाज को आईना मत दिखाओ।

Own Poetry Hindi

आओ कुछ सैटेलाइट्स गिराएँ।

आओ कुछ सैटेलाइट्स गिराएँ।

नोटबंदी – किसान हारा,
जॉब्स ढूँढ़ता यूथ बेचारा।
उनके दर्द दूर करें हम-
आज उनका दिल बहलाएँ।

आओ कुछ सैटेलाइट्स गिराएँ।

पॉलिसी, डिफ़ेंस, वर्ल्ड हंगर
सॉल्व करते हैं न्यूज़ एंकर।
उनकी ही फिर से सुनें हम-
कुछ सनसनीखेज कर जाएँ।

आओ कुछ सैटेलाइट्स गिराएँ।

नीति-अनीति, छल कपट से,
साम-दाम या दंड-भेद से,
जिनसे दिक़्कत हो उन सबका
वोटर लिस्ट से नाम हटाएँ।

आओ कुछ सैटेलाइट्स गिराएँ।

Photo by NASA on Unsplash

Own Poetry Hindi

क्रम

गीत पहले निकले
सरगम के नियम बाद में आए,
रंग पहले उड़े
होलिका के किस्से फिर बनाए।

ताक़त पहले हड़पी
राजनीति बाद में ढूँढ़ी,
क़त्ल पहले हुए
युद्ध के सिद्धांत फिर घुसाए।

बुद्धिमान पहले चुने
परिभाषा बुद्धि की फिर आई,
शासक बने पहले, बाद में
सही-गलत के भेद बताए।

Photo by Arthur Osipyan on Unsplash

Own Poetry Hindi

ये बढ़िया चौकीदारी है।

ये बढ़िया चौकीदारी है।

चोर घूमें सड़कों पर
और चोर से तुम्हें बचाने को
तुम पर ही पहरेदारी है।
ये बढ़िया चौकीदारी है।

तनख्वाह इस चौकीदार की
आती जाने किस द्वार से?
ये हम पर बहुत ही भारी है।
ये बढ़िया चौकीदारी है।

कुछ सत्तर साल पुराने
एक दूजे चौकीदार का
भूत इनपर भारी है।
ये बढ़िया चौकीदारी है।

इंतजार वेकैन्सी का करना
तुम छोड़ो, ट्विटर पर
अब आबंटन की बारी है।
ये बढ़िया चौकीदारी है।

Featured Image Credit: Photo by Mohan Moolepetlu on Unsplash

Own Poetry Hindi

कंकड़-पत्थर

राहों में चलते-चलते
कुछ मज़ेदार शक़ल के,
जो कंकड़-पत्थर मिले
हमने उठा लिए।

कभी कहीं किसी की
नज़रें मिली पारखी,
उन्हें अलट-पलट के
हीरे बता दिए।

हमसे तो ना बना
उनका मोल-भाव किए,
जो दाम दिया उन्होंने
ले हम आगे बढ़ गए।

Photo by Jeremy Thomas on Unsplash

Own Poetry Hindi

ख़ून की मांग

ख़ून के बदले ख़ून
मांग तो मैं भी लूं,
लेकिन वह ख़ून लेने
मैं तो जाऊंगी नहीं।
तो किस मुंह से मांगू
जो ख़ुद मैं लाऊंगी नहीं‌‌‍?