चलना और बदलना

Okay – now I can update this post to let you see the text in Devnagri. At some stage I had stopped writing this warning on my blog, but I guess it is a good idea to resume it.

(Your browser needs to be unicode enabled to be able to view this text in Devnagri)

पागलपन है पर पागलपन
से ही दुनिया चलती जैसे।
इंसानों के लिए इंसानियत
सौ बार देखो गिरती कैसे।

चिल्ल-पौं ये भाग दौड़,
इक दूजे पर गिरना-पड़ना।
गर्व से कहना,”हम हैं चलाते
इस दुनिया का जीना-मरना।”

सच ही है यह झूठ नहीं पर,
शायद इनसे अलग भी कुछ है।
सुख-दुख इनसे बनते, उनसे
अलग भी सुख है, अलग भी दुख है।

दुनिया चलती नहीं है उनसे
बल्कि बदली जाती है।
जो पालक विष्णु को नहीं,
संहारक शिव को लाती है।

फिर वो निर्माता को उत्साह
भरी आवाज़ लगाती है।
और मानवता को फिर सेएक
नयी राह पर लाती है।

शायद फिर से ही गिरने को,
शायद फिर से उलझ पड़ने को।
शायद फिर सेचलाने को
दुनिया और लड़ने मरने को।

(Written on 14/05/05)

5 thoughts on “चलना और बदलना

  1. nice poem jaya
    tho i wish u cud more wid d language
    u seem to switch too often between tatsam and tadbhav and sometimes to urdu
    which kind of gets awry
    however no offence meant🙂

  2. nice one…. and since u’ve written it… it gives a different effect on ur blog. I mean all the things abts duniya… its gud and real.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s