खोजने हैं पुराने कुछ सपने

खोजने हैं पुराने कुछ सपने।

बड़ी-बड़ी आँखों ने जब
उनसे भी बड़ी कल्पना की थी।
छोटी-छोटी बाहें भी जब
गगन को सारे अपनाती थीं।

खो गए हैं कहीं उनके साथ
कुछ विश्वास कभी जो थे अपने।

खोजने हैं पुराने कुछ सपने।

निष्कलुष आँखों ने देखा था,
जो था उनसे संतोष न था।
पर बदला जाएगा सबकुछ
कम यों इसका जोश न था।

आज की बलिष्ठ भुजाओं में
चलना है जोश वो फिर भरने।

खोजने हैं पुराने कुछ सपने।

क्या कहा बचपना था वो सब?
भूल जाऊँ मैं अब वो बात?
बचपना था तो डोर दुनिया की
दे दो आज बच्चों के हाथ।

थोड़ा बचपन मैं ले आऊँ
आज फिर से अपने मन में।

खोजने हैं पुराने कुछ सपने।

One thought on “खोजने हैं पुराने कुछ सपने

  1. Hi,
    Referring to one of your earlier posts (translation of ‘prasad’), if you want good translations of Hindi/Urdu words, a great source is the Platt’s online dictionary at: dsal.uchicago.edu/dictionaries/platts/

    -Tadatmya (a batchmate of urs at IIML)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s