क्यों इतनी अकेली हूँ मैं?

सब कुछ होते हुए भी
क्यों इतनी अकेली हूँ मैं?

क़दम अकेले बढ़ाए मैंने कई बार,
पर्वतों-खाईयों को किया अकेले पार।
उतार-चढ़ाव ज़िन्दगी के
कितने ही झेली हूँ मैं।

और आज
सब कुछ होते हुए भी
क्यों इतनी अकेली हूँ मैं?

कभी उतरी एक देश अनजान,
निकली बाहर जब थी नादान।
और तब भी तनहाइयों से
हँसते-हँसते खेली हूँ मैं।

और आज
सब कुछ होते हुए भी
क्यों इतनी अकेली हूँ मैं?

2 thoughts on “क्यों इतनी अकेली हूँ मैं?

  1. Since I am removing the Haloscan Comments, I am copy-pasting the comments I got on this post here.

    I have read some of the poems at ur blog. I complement on ur writing beautiful soul-searching poems. I simply admire these.
    Anita | Email | 02.14.05 – 1:31 pm | #

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s