जड़ और फल

जड़ें मिट्टी के अंदर होती हैं,
वहाँ पानी और पोषण तो रहता है।
पर हवा ढंग से नहीं पहुँचती और
जीवन जड़ है, कभी नहीं बहता है।

खुली हवा खाते हैं, तोड़े जाते हैं,
फल जो ऊँचाई पर उगते हैं।
किसी की भूख मिटाते हैं,
किसी बीमार का पथ्य बन जाते हैं।
कई हाथों से गुज़रते हैं, दुनिया देखते हैं,
और दुनिया के काम आते हैं।

पर जीवन उनका भी तो जड़ से ही आता है,
और इसलिए एक सवाल मुझे खाए जाता है –
काश ये समझ पाती कि क्या करूँ।
फल बनूँ या कि मैं जड़ बनूँ?

2 thoughts on “जड़ और फल

  1. Since I am removing the Haloscan Comments, I am copy-pasting the comments I got on this post here.

    To me one other question worries most. What is the function of stem in between roots and fruits?
    Prem | 02.10.05 – 3:21 pm | #

    ‘Chicken n Egg’ story!
    Sandeep | 02.10.05 – 5:58 pm | #

  2. mai aapki kavitayen padh ke santript ho gaya. Bahut dino baad aisi ahityik tusti mili hai. Baki ki rachnayeN mai baad me parhoonga. Aapki her rachna apne aap me bilkul hi alag hai. Is algaav ko samjhne me thoda waqt to lagega na..? waise bhi sare misthaan ek hi din khane se behtar hai ki dheere dheere rasaswadan kiya jaye.

    aapke ujjval bhavisya ki kaamna me.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s